Election,fan Fall,voter,winner Honored,block – अव्यवस्थाओं के बीचह हुई मतगणना

[ad_1]

ख़बर सुनें

्र्र्रपहाड़ी/मानिकपुर/रामनगर/मऊ(चित्रकूट)। जिले के पांच ब्लाक क्षेत्रों में रविवार की सुबह निर्धारित समय 8 बजे से मतगणना का काम शुरू नहीं हो पाया। हर जगह लगभग आधे से डेढ़ घंटे काम विलंब से चालू हुआ। इसका नतीजा यह रहा है कि पहले परिणाम का इंतजार दोपहर तक करना पड़ा। लगभग दो बजे से ग्राम प्रधान पद के प्रत्याशियों के विजय होने की जानकारी मिलनी शुरू हुई। हर जगह लगे लाउडस्पीकर से समय से परिणाम की घोषणा तक नहीं की गई। भीषण उमस व गर्मी के बीच कर्मचारियों समेत पोलिंग एजेंटों को स्वच्छ पीने के पानी का इंतजाम न होने पानी के लिए भटकना पड़ा। कई मतगणना कक्ष में पंखे खराब रहे। मतगणना स्थल पर छाया व टेंट का इंतजाम न होने से प्रत्याशी पोलिंग एजेंट समेत ड्यूटीरत कर्मचारियों को धूप व गर्मी में ही रुक कर काम करना पड़ा।
——
बाहर छायी रही बेचैनी
चित्रकूट। जिले के सभी मतगणना स्थलों के बाहर लगे लाउडस्पीकर से समय से जीत हार की जानकारी नहीं दी जा रही थी। जिससे मतगणना स्थल से दूर बैठे प्रधान व अन्य पदों के लिए चुनाव लड़ने वालों के समर्थक व परिजन परेशान रहे। मौजूद लोगों का कहना था कि चक्रवार गिनती हो रही है तो उसकी वैसी ही जानकारी दी जानी चाहिए। इस बार नया नियम बना लिया गया है। कुछ ने पक्षपात की संभावना जताई है। (संवाद)

मऊ व पहाड़ी ने मारी बाजी
चित्रकूट। परिणाम घोषणा के मामले में सदर ब्लाक चित्रकूट, मानिकपुर व रामनगर की अपेक्षा मऊ व पहाड़ी सबसे आगे रहे। मऊ व पहाड़ी ब्लाक क्षेत्र से ही सबसे पहले परिणाम आना शुरूहुआ। इसके बाद मानिकपुर ब्लाक क्षेत्र में मतगणना कर्मियों ने तेजी दिखाई। हालांकि शाम छह बजे के बाद सदर ब्लाक की मतगणना ने भी गति पकड़ी। डीएम शाम को सीआईसी मतगणना स्थल पहुंचे और कर्मचारियों से तेजी से काम करने के निर्देश दिए। एसपी अंकित मित्तल ने कड़ाई से पुलिसकर्मियों से ड्यूटी निर्वहन को कहा। (संवाद)
—-
लॉकडाउन का असर, खीरा खरबूजा से चलाया काम
चित्रकूट। लॉकडाउन होने से बाजार तो बंद रहे। पर जिले के सभी पांच मतगणना स्थल से कुछ दूरी पर चुनाव लड़ने वालों के समर्थक मौजूद रहे। बाजार बंद होने से लोग परेशान रहे। पर आसपास ठेलों में खीरा खरबूजा आम व शर्बत की बिक्री हुई। हर मतगणना स्थल के बाहर गांव की चक्रवार मतगणना का नंबर के क्रम का बैनर लगाया गया था। जिसे देखकर पोलिंग एजेंट मतगणना कमरे तक पहुंचे। (संवाद)
——
अधिकारी करते रहे निगरानी
चित्रकूट/मऊ/मानिकपुर। जिले के पांच मतगणना स्थलों का डीएम शुभ्रांत कुमार शुक्ल व एसपी अंकित मित्तल लगातार निरीक्षण करते रहे। इसके अलावा सीडीओ अमित आसेरी, एडीएम जीपी सिंह व जिला पंचायत सदस्य पद के चुनाव के अधिकारी एडीएम सुनंदु सुधाकरन अलग टीम में मतगणना स्थल से लेकर घोषित परिणाम और प्रमाण पत्र वितरण का काम की निगरानी करते रहे। (संवाद)
———-
प्रमाणपत्र लेने के लिए जूझना पड़ा
चित्रकूट। सदर ब्लाक क्षेत्र के जीते प्रत्याशियों को अपने प्रमाण पत्र लेने के लिए एक घंटे से अधिक का समय इंतजार करना पड़ा। जिसमें महिला प्रत्याशी भी शामिल रही। कई बार एलान किया गया कि प्रत्याशियों को प्रमाण पत्र देना है। प्रमाण पत्र भेजा जाए। (संवाद)
——–
मतगणना स्थल के बाहर डटे रहे समर्थक
चित्रकूट। मनाही के बाद भी मतगणना स्थल के बाहर प्रत्याशियों के समर्थकों की भीड़ लगी रही। जो परिणाम जाने के लिए इंतजार करते रहे। कई बार पुलिस कर्मी लाठियां पटकर कर भगाया भी। बावजूद इसके लोग नहीं माने। (संवाद)

्र्र्रपहाड़ी/मानिकपुर/रामनगर/मऊ(चित्रकूट)। जिले के पांच ब्लाक क्षेत्रों में रविवार की सुबह निर्धारित समय 8 बजे से मतगणना का काम शुरू नहीं हो पाया। हर जगह लगभग आधे से डेढ़ घंटे काम विलंब से चालू हुआ। इसका नतीजा यह रहा है कि पहले परिणाम का इंतजार दोपहर तक करना पड़ा। लगभग दो बजे से ग्राम प्रधान पद के प्रत्याशियों के विजय होने की जानकारी मिलनी शुरू हुई। हर जगह लगे लाउडस्पीकर से समय से परिणाम की घोषणा तक नहीं की गई। भीषण उमस व गर्मी के बीच कर्मचारियों समेत पोलिंग एजेंटों को स्वच्छ पीने के पानी का इंतजाम न होने पानी के लिए भटकना पड़ा। कई मतगणना कक्ष में पंखे खराब रहे। मतगणना स्थल पर छाया व टेंट का इंतजाम न होने से प्रत्याशी पोलिंग एजेंट समेत ड्यूटीरत कर्मचारियों को धूप व गर्मी में ही रुक कर काम करना पड़ा।

——

बाहर छायी रही बेचैनी

चित्रकूट। जिले के सभी मतगणना स्थलों के बाहर लगे लाउडस्पीकर से समय से जीत हार की जानकारी नहीं दी जा रही थी। जिससे मतगणना स्थल से दूर बैठे प्रधान व अन्य पदों के लिए चुनाव लड़ने वालों के समर्थक व परिजन परेशान रहे। मौजूद लोगों का कहना था कि चक्रवार गिनती हो रही है तो उसकी वैसी ही जानकारी दी जानी चाहिए। इस बार नया नियम बना लिया गया है। कुछ ने पक्षपात की संभावना जताई है। (संवाद)



मऊ व पहाड़ी ने मारी बाजी

चित्रकूट। परिणाम घोषणा के मामले में सदर ब्लाक चित्रकूट, मानिकपुर व रामनगर की अपेक्षा मऊ व पहाड़ी सबसे आगे रहे। मऊ व पहाड़ी ब्लाक क्षेत्र से ही सबसे पहले परिणाम आना शुरूहुआ। इसके बाद मानिकपुर ब्लाक क्षेत्र में मतगणना कर्मियों ने तेजी दिखाई। हालांकि शाम छह बजे के बाद सदर ब्लाक की मतगणना ने भी गति पकड़ी। डीएम शाम को सीआईसी मतगणना स्थल पहुंचे और कर्मचारियों से तेजी से काम करने के निर्देश दिए। एसपी अंकित मित्तल ने कड़ाई से पुलिसकर्मियों से ड्यूटी निर्वहन को कहा। (संवाद)

—-

लॉकडाउन का असर, खीरा खरबूजा से चलाया काम

चित्रकूट। लॉकडाउन होने से बाजार तो बंद रहे। पर जिले के सभी पांच मतगणना स्थल से कुछ दूरी पर चुनाव लड़ने वालों के समर्थक मौजूद रहे। बाजार बंद होने से लोग परेशान रहे। पर आसपास ठेलों में खीरा खरबूजा आम व शर्बत की बिक्री हुई। हर मतगणना स्थल के बाहर गांव की चक्रवार मतगणना का नंबर के क्रम का बैनर लगाया गया था। जिसे देखकर पोलिंग एजेंट मतगणना कमरे तक पहुंचे। (संवाद)

——

अधिकारी करते रहे निगरानी

चित्रकूट/मऊ/मानिकपुर। जिले के पांच मतगणना स्थलों का डीएम शुभ्रांत कुमार शुक्ल व एसपी अंकित मित्तल लगातार निरीक्षण करते रहे। इसके अलावा सीडीओ अमित आसेरी, एडीएम जीपी सिंह व जिला पंचायत सदस्य पद के चुनाव के अधिकारी एडीएम सुनंदु सुधाकरन अलग टीम में मतगणना स्थल से लेकर घोषित परिणाम और प्रमाण पत्र वितरण का काम की निगरानी करते रहे। (संवाद)

———-

प्रमाणपत्र लेने के लिए जूझना पड़ा

चित्रकूट। सदर ब्लाक क्षेत्र के जीते प्रत्याशियों को अपने प्रमाण पत्र लेने के लिए एक घंटे से अधिक का समय इंतजार करना पड़ा। जिसमें महिला प्रत्याशी भी शामिल रही। कई बार एलान किया गया कि प्रत्याशियों को प्रमाण पत्र देना है। प्रमाण पत्र भेजा जाए। (संवाद)

——–

मतगणना स्थल के बाहर डटे रहे समर्थक

चित्रकूट। मनाही के बाद भी मतगणना स्थल के बाहर प्रत्याशियों के समर्थकों की भीड़ लगी रही। जो परिणाम जाने के लिए इंतजार करते रहे। कई बार पुलिस कर्मी लाठियां पटकर कर भगाया भी। बावजूद इसके लोग नहीं माने। (संवाद)


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *